Ye Baarishen | Hopeless

सुबह तो
खुशनुमा थी
,
क्यों शाम
मुझे फिर तनहा छोड़ गयी,
मंजिल दिखी ही
थी
,
कि ज़िन्दगी
फिर रास्ता मोड़ गयी
,
दिन तो गुज़र
गया
,
मगर रात फिर तेरी
यादों के साथ छोड़ गयी
,
अभी तो चलना
सीखा था
,
मेरी हसरतें
फिर मुझे तोड़ गयी
,
ये बारिशें
मेरे लबों को छूकर
,
फिर मुझे
प्यासा छोड़ गयी
 ♥♥



Indian Bloggers

Tagged , , , , , , , ,

16 thoughts on “Ye Baarishen | Hopeless

  1. arre wah.. aaj maine bhi baarish pe haiku likha ha 🙂
    bahut badhiya MS 🙂

    1. bahut bahut shukriya 🙂

  2. bahut pyaraa likha hai Madhu:)

    1. Shukriya Sir 🙂

    1. THanks Leena 🙂

  3. Beautiful.. 🙂

    1. THanks Anjali 🙂

  4. Kya baat hai! Bahut pyara!

    1. Shukriya Rakesh 🙂

  5. Khoobsurat..hamesha ki tarah 🙂

  6. बहुत सुंदर .
    नई पोस्ट : क्या बोले मन

    1. शुक्रिया सर |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *